कामयाबी तय करना है तो कल(बुधवार को) बोलें यह श्री गणेश मंत्र

संकल्प, इच्छाशक्ति, धैर्य, बुद्धि, विवेक, दृढ़ता, शांति व अच्छा आचरण ही जीवन में जिम्मेदारियों को उठाने व सफलतापूर्वक पूरा करने की राह आसान बना देते हैं। धर्मशास्त्रों के मुताबिक हिन्दू धर्म के पंचदेवों में श्री गणेश की भक्ति तय लक्ष्यों को सफलतापूर्वक पाने की बुद्धि व विवेक देती है। 

खासतौर पर बुधवार या चतुर्थी तिथि पर श्री गणेश की उपासना घर-परिवार के साथ व्यक्तिगत जीवन में भी ढेरों सुख व सफलताएं तय करती है। जिसके लिये विशेष गणेश मंत्र के साथ पूजा का महत्व बताया गया है। जानिए, यह आसान पूजा विधि व मंत्र – 

– स्नान के बाद पीले वस्त्र पहन देवालय में श्री गणेश को पवित्र जल से स्नान कराकर पीला चंदन, पीले फूल, जनेऊ दूर्वा चढ़ाएं। श्री गणेश को मोदक का भोग लगाएं। 

– धूप व दीप जलाकर नीचे लिखे श्री गणेश मंत्र का स्मरण कर आरती करें

विश्वकर्ता विश्वमुखो विश्वरूपो निधिर्घृणि:।

कवि: कवीनामृषभो ब्रह्मण्यो ब्रह्मणस्पति:।।

ज्येष्ठराजो निधिपतिर्निधिप्रियपतिप्रिय:।

हिरण्मयपुरान्त:स्थ: सूर्यमण्डलमध्यग:।। 

तत्पश्चात सुख-सफलता की कामना के साथ भोग लगाये हुए अलग से प्रसाद को ग्रहण करें.

आपके जीवन में सफलता के द्वार खुलते चले जायेंगे.

“श्री गणेशाय नमः”

Advertisements