जिन्दगी मेँ वक्त से ज्यादा अपना और पराया कोई नही होता

वक्त अपना होता है तो सब अपने होते हैँ

और वक्त पराया होता है तो अपने भी पराये हो जाते हैँ…

नीलकमल वैष्णव”अनिश”

Advertisements