आज फिर मौसम नम है, मेरी आँखों कि तरह !

ऐ ‘अनिश’

शायद कही बादलों का भी, किसी ने “दिल” दुखाया है..!!

Advertisements