क्यूँ इंसान हँसता है रोने के बाद, 
जीना फिर भी पड़ता है सब कुछ खोने के बाद, 
सोचा आज तुमको याद कर लूँ,
क्या पता आँख ही ना खुले आज सोने के बाद…

Advertisements