Archive for नवम्बर, 2012


उसको भूलना गवारा नहीं मुझे
पर वह रह रह कर याद आ रही है
और लोग तो कहते हैं ऐ ‘अनिश’
याद वो आते हैं जिन्हें भूल गये हो.

®नीलकमल वैष्णव”अनिश”

Advertisements

एक अहसास होने लगा है मुझे 

कि अब वो मुझे भूलने लगी है,

लगता है कि मेरी साँसे टूट रही है 

जीते जी ना भूलने का वादा जो था.
——————————
®नीलकमल वैष्णव”अनिश”

याद,,,

 

I MISS YOU(आई मिस यू)

सुबह से शाम तक,

दिन से रात तक,

कल से आज तक,

मंडे से संडे तक,

जनवरी से दिसंबर तक,

नींद से ख्वाब तक,

ज़मीन से आसमान तक,

इस किनारे से उस किनारे तक,

यहाँ से वहाँ तक,

आप से मुझ तक,

जिन्दगी से मौत तक,

चाँद से सितारे तक,

नार्थ से साऊथ तक,

इस्ट से वेस्ट तक,

दिल से दिल तक,

कली से गुलाब तक,

और
जिन्दगी के पहले दिन से

जिन्दगी के आखिरी दिन तक…

आई मिस यू(आप हमेशा याद आओगे)

मैं इक कच्ची कली हूँ 

आपके छूने से खिल जाउंगी 

मदहोशी कुछ इस कदर है मुझमें 

घूर के ना देखना कभी 

जो देखोगे तो गिर जाऊँगी 

शरारतें हैं कुछ ज्यादा मुझमें 

तड़प-तड़प के तुम्हें तड़पाउंगी 

संभालना उस दिन जानू मुझे 

जब मैं खुद इक कली 

तुझ भंवरे से लिपट जाऊँगी 

मैं इक कच्ची कली हूँ 

आपके छूने से खिल जाउंगी 
———————–(Moon)

नीलकमल वैष्णव”अनिश”