उनकी बेरुखी और मेरी बेकरारी कुछ यूँ है ?
जैसे दोनों में शर्त लगी है कौन जीतेगा…

®नीलकमल वैष्णव”अनिश”

Advertisements