अजीब लगती है शाम कभी-कभी

जिंदगी लगती है बेजान कभी-कभी

समझ में आये तो हमें भी बताना ‘दोस्त’

क्यों करती है यादें परेशान कभी-कभी…

Untitled

Advertisements