अब मैं किसी पहचान का मोहताज नहीं ऐ ‘अनिश’

तेरी मुहब्बत में मैं बदनाम ही इस कदर हुआ हूँ…

®नीलकमल वैष्णव”अनिश”

Advertisements