Holi Hai…

Dil ne ek baar aur humaara kehna maana hai,
Is holi men phir use rangne jaana hai.

Har saal khareedten hain rang, karte hai taiyaari,
Is baar to khelenaa saath, dekhnaa raah humaari.

Shahar mein sabse pooch rahe hain , rang-e-mohabbat kahaan milega
Raat ko khuda ne bataaya ki abhi aur imtehaanon se guzarnaa parega

Neela, hara , peela , gulaabi yeh sab to ek bahaana hai,
Holi ka ho din ya kuch aur hume to tumse milne aana hai

Dil ne ek baar aur humaara kehna maana hai,
Is Holi men phir use rangne jaana hai…
– – – – – – – – – – – – – – – – – – – – – – – – – – – – – – (Copy)
होली है…

दिल ने एक बार और हमारा कहना माना है 
इस होली में फिर उसे रंगने जाना है 

हर साल खरीदतें हैं हम रंग करते हैं तैयारी 
इस बार तो खेलना साथ देखना राह हमारी 

शहर में सबसे हम पूंछ रहे हैं रंग-ए-मोहब्बत कहाँ मिलेगा 
रात खुदा ने बताया की अभी और इम्तिहानों से गुजरना पड़ेगा 

नीला, हरा, पीला, गुलाबी रंग यह सब तो एक बहाना है 
होली का हो दिन या कुछ और हमें तुमसे मिलने आना है 

दिल ने एक बार और हमारा कहना माना है,
इस होली में फिर उसे रंगने जाना है…

®नीलकमल वैष्णव”अनिश”
आप सभी को रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं…

Advertisements