Apne rang mein rang do unko,

chehra jinka bhata tumko,


Gulal to 1 bahana hai,

yaaron karib unke jana hai,


Hum to kab k rang chuke,

jabse unke nayan jhuke,


rang, gulal aur prit ki holi,

khushi, mauj aur ikrar ki holi,


aaj saji sab taraf rangoli hai,

rango mein simti pyaari holi hai,


khushiyon mein dubi toli hai,

yaaron bura na mano holi hai.


!!! H O L I   M U B A R A K !!!

– – – – – – – – – – – – – – – – – – – – – (Copy)

 
अपने रंग में रंग दो उनको
चेहरा जिनका भाता तुमको
 
गुलाल तो एक बहाना है
यारों करीब उनके जाना है

हम तो कब के रंग चुके
जबसे उनके नयन झुके
 
रंग गुलाल और प्रीत की होली
ख़ुशी, मौज और इकरार की होली
 
आज सजी सब तरफ रंगोली है
रंगों में सिमटी प्यारी होली है
 
खुशियों में डूबी टोली है
यारों “बुरा ना मानो होली है”
 
!!! होली मुबारक !!!
 
®नीलकमल वैष्णव”अनिश”
आप सभी को रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं…17801_145448938962262_850513272_n
Advertisements